शुक्रवार, 29 मार्च 2019

ईश्वर चाहता था कि वह मुक्त हो ईश्वरत्व से!



झरने इंतज़ार में थे
कोई उन्हें रुकने को कहेगा
बूंदें चाहती थीं
धरती पर न गिरें
सूरज स्वार्थी होना चाहता था
एक दिन के लिए
चांद चाहता था
उसे न मिले उधार की रोशनी,
पेड़ की बहुत इच्छा थी
कि
इक रोज़ वह अपना फल खाए
गाय अपना ही दूध पीने के लिए
कई दिनों से तड़प रही थी
नदियों की इच्छा थी
कि एक दिन के लिए वे तालाब हो जाएं
समंदर चाहता था
कि
कोई विजातीय धारा उसमें न गिरे,
फगुना की इच्छा थी
कि
एक दिन के लिए ही सही
वह सभी रिश्तों से पार पा ले
माई, बहिन, भौजाई, ननद, मेहरारू
के विशेषणों से इतर
एक दिन वह बस फगुना
ही रहे,
मजदूर चाहते थे
कि
वे ख़ुद अपने मालिक बन जाएं,
प्रथाएं चाहती थीं
कि
उनकी ओट में
किसी की
सिसकियां न सुनाई दें,
आसमान
एक दिन के लिए
सिकुड़ना चाहता था,
धरती चाहती थी
कि
उसकी गोद में
लुटेरों, डाकुओं, चोरों, और बलात्कारियों
को न ज़बरन दफ़नाया जाए,
चाहती तो
सुनरकी भी थी
ब्याह हो जाए बड़के बखरिया में
पर
चाहने से क्या होता है
तन से मनचाहा हमसफ़र तो नहीं मिलता
उसके लिए पैदा होना पड़ता है
कुलीन बनकर,
चाह तो भगवान भी रहा है
उसके सिर न मढ़े जाएं
होनी, अनहोनी करने और कराने के बेतुके कलंक
वह चाहता है कि
मानस की पंक्तियों से कोई मिटा दे
होइहि सोइ जो राम रचि राखा
वह चाहता है कि कोई झुठला दे
वृक्ष कबहु न फल भखें वाला दोहा
उसका भी मन करता है
धरती की तमाम प्रत्याशाओं, वर्जनाओं, कुंठाओं
और
महत्वाकांक्षाओं
के दोष उस पर न थोपे जाएं
लेकिन
चाह तो उसकी भी अधूरी है
विवश है वह
अपने निर्माताओं के रचे गए व्यूह में फंसकर,
एक दिन के लिए वह भी चाहता है
मुक्त होना
इस धारणा से
कि
वह ईश्वर है।

7 टिप्‍पणियां:


  1. जय मां हाटेशवरी.......
    आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
    आप की इस रचना का लिंक भी......
    31/03/2019 को......
    पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
    शामिल किया गया है.....
    आप भी इस हलचल में......
    सादर आमंत्रित है......

    अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
    https://www.halchalwith5links.blogspot.com
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 30/03/2019 की बुलेटिन, " सांसद का चुनाव और जेड प्लस सुरक्षा - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  4. आवश्यक सूचना :

    सभी गणमान्य पाठकों एवं रचनाकारों को सूचित करते हुए हमें अपार हर्ष का अनुभव हो रहा है कि अक्षय गौरव ई -पत्रिका जनवरी -मार्च अंक का प्रकाशन हो चुका है। कृपया पत्रिका को डाउनलोड करने हेतु नीचे दिए गए लिंक पर जायें और अधिक से अधिक पाठकों तक पहुँचाने हेतु लिंक शेयर करें ! सादर https://www.akshayagaurav.in/2019/05/january-march-2019.html

    जवाब देंहटाएं