पेज

सोमवार, 1 सितंबर 2014

माँ

मेरी दुनिया तुझ तक सिमटी,
बाकी सब लगता है सपना,
 माँ   तू   है   तो  दुनिया हैं ,
तेरे पास ही मुझको रहना.
बहुत दिनों से थका-थका हूँ
थपकी दे के सुला दे माँ,
तुझ से दूर रहा नहीं जाता
मुझको पास बुला ले माँ....

22 टिप्‍पणियां:

  1. अत्यंत आत्मीय सी एक भावपूर्ण रचना ! बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना बुधवार 03 सितम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. Achchhi rachna, sachmuch aisa lagta hai jaise aap Maa ke paas nahi hain!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Han sir! Ek arsa ho gaya hai ghar gaye hue..kareeb 6 mahine...maa bahut yaad aa rahi hai..!!

      हटाएं
  4. आत्मीयता के भाव लिए ... माँ के प्रेम जज्ब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  7. माँ से बहुत दिन तक दूर नहीं रह पाते बच्चे
    बहुत सुन्दर ममतामयी

    उत्तर देंहटाएं
  8. ............. अनुपम भाव संयोजन

    Recent Post शब्दों की मुस्कराहट पर ….... बारिश की वह बूँद:)

    उत्तर देंहटाएं