पेज

बुधवार, 23 जुलाई 2014

माँ!



कुछ गलती मैँ कर देता हूँ

कुछ मुझसे हो जाती है,

इसके बाद ये जालिम दुनिया

ताने बहुत सुनाती है,

तू न होती तो मेरी माँ!

मुश्किल था जिँदा रहना,

जब दुनिया मुँह फेरे मुझसे

तब तू गले लगाती है॥

                                     ( a snap with my dadi amma)

11 टिप्‍पणियां:

  1. सन्दर प्रस्तुति।
    ममतामयी माँ को नमन।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. आभार सर!!!...लिखूंगा बस आप सब का स्नेह मिलता रहे..

      हटाएं
  3. बहुत सुन्दर सरल प्रवाह है आपकी रचनाओ में

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर भाव.... फोटो बहुत प्यारी है

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही कोमल भावनाओं में रची-बसी खूबसूरत रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं