गुरुवार, 3 अक्तूबर 2013

प्रतिघात



मेरे मन में वेदना है
विस्मृत सी अर्चना है ;
आँखे ढकी हैं मेरी
मुझे विश्व देखना है.
नयनो पे है संकट
पलकें गिरी हुई हैं;
कुछ विम्ब भी न दिखता
दृष्टि बुझी- बुझी है.

संध्या भी बढ़ रही है
मुझे सूर्य रोकना है,
इस अन्धकार जग में,
नया तूर्य खोजना है.
नैराश्य की दिशा में ,
अब विश्व चल पड़ा है
नेत्र हीन होकर
बस युद्ध कर रहा है.
न मानव है कहीं पर
मानवता न शेष अब है,
आतंक के प्रहर में
भयभीत अब सब हैं.
कोई उपाय है जो
शान्ति को बचा ले?
भूले हुए पथिक को,
इक मार्ग फिर दिखा दे.
परिणाम हीन पथ पर
क्यों बढ़ रहे कदम कुछ?
ये विषाक्त मानव
क्या कर रहा नहीं कुछ?
भयाक्रांत हैं दिशाएँ
किसे दर्प हो रहा है?
किन स्वार्थों से मानव
अब सर्प हो रहा है?
मानव की बस्तियों में
विषधर कहाँ से आये?
सोये हुए शिशु को
चुपके से काट खाए?
क्या सीखें हम विपद से
असमय मृत्यु मरना?
या शक्तिहीन होकर,
असहाय हो तड़पना?
बिन लड़े मरे तो,
धिक्कार हम सुनेंगे,
कायर नहीं कभी थे,
तो आज क्यों रहेंगे?
हिंसा के पुजारी
हिंसा से ही डरेंगे,
प्रतिघात वो करेंगे,
संहार हम करेंगे.
.”प्रति हिंसा हिंसा न भवति” .

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर सामयिक अभिव्यक्ति !
    नवीनतम पोस्ट मिट्टी का खिलौना !
    नई पोस्ट साधू या शैतान

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सूंदर प्रस्तुति अभिषेक जी .
    आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (07.10.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें . कृपया वर्ड वेरिफिकेसन हटा दें . कमेन्ट में सुविधा होगी ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. धन्यवाद नीरज जी।
    word verification हटाने का प्रयत्न कर रहा हूँ सेटिँग समझ मेँ नही आ रही है असुविधा के लिए क्षमा चाहता हूँ। ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर ,सरल और प्रभाबशाली रचना। बधाई।
    कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन

    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपका ब्लाग पढ़ना मेरा सौभाग्य होगा....उत्साहवर्धन हेतु आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. What we are going to be doing is called - A  "domain masking".
    One of the reasons I love using the internet to make money is the
    fact that it can - A  be done - A  with little startup cost.

    Here, rather than falling back into the routine of looking for a job, one
    can create one's own opportunity for making money online.


    Visit my web page - legitimate ways to make money online

    उत्तर देंहटाएं
  7. A pгo hormone is a precursor of hormoneѕ but it doesn't
    have much of hormonal effectѕ ߋn its own. Yet,
    they continue to eat equally large amounts of food like when they're training.
    Excellent solutions like maҝing a cɦoice on low calߋrie nutгitiߋn and planning this meals
    well remain more reаlistic.

    Visіt my web page: turbulence Training Pdf

    उत्तर देंहटाएं