पेज

शनिवार, 27 अक्तूबर 2012

ख़ामोशी


कभी कभी ये चुप हो कर भी बहुत कुछ कहतें हैं.......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें