गुरुवार, 17 जून 2021

अतृप्ति


पहाड़ों को ज़मीन अच्छी लग रही थी। ज़मीनों को समंदर। समंदर पठार बनना चाहता था; पठार अपने भीतर के घाव से जूझ रहा था। 

पठार की कुंठा थी कि हाय! न हम समंदर बने, न समतल रहे, न पहाड़ों में गिनती हुई। 

जिसका जो यथार्थ था, वही उसे काटने दौड़ रहा था। ईश्वर उलाहने, ताने सुनकर क्षुब्ध था, सबकी अतृप्त अभिलाषाओं का ठीकरा उस पर फूट रहा था। सबकी व्याधियों का नियंता वह तो नहीं, फिर दोषी क्यों?

दुःखी ईश्वर के मुंह से अनायास फुट पड़ा, संतुष्टि के आतिथ्य का अधिकारी वही, जो जड़बुद्धि हो

तब से ही, अवधूत सुखी हैं, बुद्धिमान पीड़ित। मूर्ख परमानंद में हैं, ज्ञानी कुंठित। इच्छा, अभीप्सा और प्रत्याशा के आराधक अवसाद में हैं, जड़भरत के अनुयायी मगन।

जो प्रश्न, बुद्ध से अनुत्तरित रहे, उन्हें अवधूतों ने सुलझा लिया। जहां बुद्धि है, वहां असंतोष है। जहां आनंद है, वहां बुद्धि का क्या प्रयोजन?

इतनी सी बात न ज़मीन को समझ आई, न समंदर को। न पहाड़ ने यथार्थ समझा, न पठार ने। अंततः हुआ यह कि पहाड़ दरकने लगे, पठार सिकुड़ने लगे, ज़मीन खिसकने लगी और समंदर विश्व के अपशिष्टों को सोख रहा है, धरती बनने के लिए।


इनमें से किसी की इच्छा, अभी तो पूरी नहीं हो रही, कुंठा है कि आकाश धर रही है। 

ईश्वर, विपद और विपत्तियों पर प्रसन्न हैं। आंख मूंदकर सोए हैं। कह रहे हैं- भोगो, अपनी-अपनी आकांक्षाओं का प्रारब्ध।

-अभिषेक शुक्ल.

11 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार १७ जून २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी नमस्ते,
      आपकी लिखी रचना शुक्रवार १७ जून २०२१ के लिए साझा की गयी है
      पांच लिंकों का आनंद पर...
      आप भी सादर आमंत्रित हैं।
      सादर
      धन्यवाद।

      हटाएं
    2. क्षमा सहित,
      कृपया आमंत्रण १८ जून पढ़ा जाय।
      सादर।

      हटाएं
  2. अतुल्य चिंतन व मंथन .. पर अंतिम वाक्य/कथन/सोच- "ईश्वर, विपद और विपत्तियों पर प्रसन्न हैं। आंख मूंदकर सोए हैं। कह रहे हैं- भोगो, अपनी-अपनी आकांक्षाओं का प्रारब्ध।" से उपजा एक ऊटपटाँग सवाल मन को मंथता है निरन्तर कि .. आखिर .. कोई बलात्कृत अपनी किस आकांक्षा के प्रारब्ध में पीड़ित हो कर भोगती है, शारीरिक, मानसिक और आत्मिक पीड़ा .. वो भी तथाकथित ईश्वर (?) के रहते ? ... यह भी सवाल अनुत्तरित है .. शायद ...

    जवाब देंहटाएं
  3. सच , सब भुगत ही रहे ज्यादा बुद्धि वाले । असंतोष ही दुख का कारण है । बहुत अच्छा लिखा ।

    जवाब देंहटाएं
  4. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (१९-०६-२०२१) को 'नेह'(चर्चा अंक- ४१००) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  5. अतुलनीय चिंतन और यथार्थ को आइना दिखाती रचना |
    =======जिसका जो यथार्थ था, वही उसे काटने दौड़ रहा था। -----
    यही असंतुष्टि ही तो सारी रार की जड़ है |

    जवाब देंहटाएं
  6. आह, असंतोष, तुम क्या न लील जाओ!

    जवाब देंहटाएं